poetry

हम भी वैसे ही मिलते है

जैसे रात में सितारे मिलते है जैसे दिन में बादल उड़ते है जैसे परिंदे के जोड़े घर के लिए पेड़ ढूंढते है हम भी वैसे ही मिलते है जैसे नदियाँ सैर पर निकलती है जैसे किरणे पहेली खेलती है जैसे बर्फ पहाड़ो से मिलती है हम भी वैसे ही मिलते है जैसे लहरें आकर पैरों को छूती है जैसे हवा दुप्पटे से लिपटती है जैसे दो सड़के एक रस्ते पे मिलती है हम भी वैसे…

Continue reading

poetry

लेते आना

जब भी आना कुछ बाते, कुछ वादे लेते आनाकुछ अपने शहर की गर्मी, कुछ शर्दी लेते आनायहां अभी भी घूमते है कुछ पराये लोगमैं तुम्हारी और तुम इनके बन जाना जब भी आना कुछ अपने शहर की मिट्टी, कुछ अपने खेत की हरियाली लेते आनाकुछ अपने घर की गूंजती हसी और वो तुलसी भी लेते आनाये आंगन अभी भी सुना हैइठलाऊँगी मैं इसमें और तुम भी सुकून से सो जाना जब भी आना कुछ उस…

Continue reading

poetry

A little younger

If I were a little younger,I could move mountains high,Paint the birds with vibrant hues,Make the flowers touch the sky,If I were a little younger. I could glare at the sun’s bright gleam,Build a castle on the moon’s serene,Sense the time within my grasp,Lift the jungle, break its clasp,If I were a little younger. I could hold the wind within my hand,Draw the stars upon the land,Talk with trees in whispered speech,Fight the bears, their…

Continue reading

poetry

What if

What if I hold it all inside,What if the sun decides to hide,What if the moon shatters its crown—Is it right to let this anger course through my veins? What if summer abandons its heat,What if winter’s chill retreats,What if we’re trapped in an endless, unknown season—Is it not okay to drift along the river of time? What if I couldn’t care less,What if your anger outweighs your regrets,What if we can’t maintain our pretences?…

Continue reading

poetry

मैं और तुम

मैं और तुम बिच में सरहद की दिवार खड़ी है मैं यहां और तुम वहां पे हर बात पे जीकर है तुम्हारा और मेरी हर याद है तुम्हारे साथ जब भी हवा चलती है बादलों को लेकर वहां से असमन में लहरे उमड़ने लगती है यहां पे जब भी बारिश जाती है यहां से फूल ही फूल खिल जाते है वहां पे मेरी भी चिठियों में बाते लिखी होती है वही, जो तुम्हारे लिए भी…

Continue reading

poetry

Inner child

मैं भी बाहें फैला रही हूँ , तुम भी फैलाओ अपनीपकड़ो हाथ मेरा, चलो उड़ चलें कहीचलो उस पतंगे की सवारी कर के बादलों के पास जायेसूरज के लाल घूंघट से हम खेलकर आयेकब तक तुम यूही बिस्तर के निचे छिपे रहोगेकब तक इस अँधेरे में घिरे रहोगेबहार आसमान बहोत साफ़ हैचलो कुछ तारे तोड़ कर लाये हम भी मैं भी बाहें फैला रही हूँ , तुम भी फैलाओ अपनीपकड़ो हाथ मेरा, चलो चलें कहीचलो…

Continue reading

ART

GOND ART

Hey friends! Welcome to the amazing world of Gond Art, a mesmerizing Indian folk art that is full of vibrant colors and rich cultural heritage. This ancient tradition originated from the tribal communities of Central India, particularly the Gondi tribes of Madhya Pradesh. It celebrates nature, folklore, and spirituality, and in this blog, we will take you on a journey to explore the beauty and intricacies of Gond Art, uncovering its history, techniques, and significance…

Continue reading

poetry

The oversea war

I don’t know to whom I should standI don’t know for whom I should crythose unhealthy and unfamiliar howlshitting me hardI should say something, I should do somethingbut not todaybecause it’s overwhelming, it feels like I will diethis oversea fight, still I can seepeople are lurking under the depth of the crowdthat painless body, hurting chest and teary eyesI don’t know what to sayI don’t know for whom I should praytheir voices piercing into my…

Continue reading

poetry

याद है मुझे

याद है मुझे वो मिटटी के घर और उनपे सजे छज्जे याद है मुझे वो छोटा सा आंगन और उसमे बिखरे तुलसी के पत्ते वो छोटी सी फुलवारी, वो मम्मी की साड़ी हा मुझे याद है वो हमारी पाठ पे छोटे छोटे से बास्ते कुछ बर्तनो के शोर, कुछ लोगो के सटे हुए चेहरे वो छोटी – छोटी खेतो की क्यारी, वो पापा की साइकिल की सवारी हा सब याद है मुझे याद है मुझे…

Continue reading