poetry

लेते आना

जब भी आना कुछ बाते, कुछ वादे लेते आनाकुछ अपने शहर की गर्मी, कुछ शर्दी लेते आनायहां अभी भी घूमते है कुछ पराये लोगमैं तुम्हारी और तुम इनके बन जाना जब भी आना कुछ अपने शहर की मिट्टी, कुछ अपने खेत की हरियाली लेते आनाकुछ अपने घर की गूंजती हसी और वो तुलसी भी लेते आनाये आंगन अभी भी सुना हैइठलाऊँगी मैं इसमें और तुम भी सुकून से सो जाना जब भी आना कुछ उस…

Continue reading

poetry

A little younger

If I were a little younger,I could move mountains high,Paint the birds with vibrant hues,Make the flowers touch the sky,If I were a little younger. I could glare at the sun’s bright gleam,Build a castle on the moon’s serene,Sense the time within my grasp,Lift the jungle, break its clasp,If I were a little younger. I could hold the wind within my hand,Draw the stars upon the land,Talk with trees in whispered speech,Fight the bears, their…

Continue reading

poetry

What if

What if I hold it all inside,What if the sun decides to hide,What if the moon shatters its crown—Is it right to let this anger course through my veins? What if summer abandons its heat,What if winter’s chill retreats,What if we’re trapped in an endless, unknown season—Is it not okay to drift along the river of time? What if I couldn’t care less,What if your anger outweighs your regrets,What if we can’t maintain our pretences?…

Continue reading

poetry

मैं और तुम

मैं और तुम बिच में सरहद की दिवार खड़ी है मैं यहां और तुम वहां पे हर बात पे जीकर है तुम्हारा और मेरी हर याद है तुम्हारे साथ जब भी हवा चलती है बादलों को लेकर वहां से असमन में लहरे उमड़ने लगती है यहां पे जब भी बारिश जाती है यहां से फूल ही फूल खिल जाते है वहां पे मेरी भी चिठियों में बाते लिखी होती है वही, जो तुम्हारे लिए भी…

Continue reading

poetry

Inner child

मैं भी बाहें फैला रही हूँ , तुम भी फैलाओ अपनीपकड़ो हाथ मेरा, चलो उड़ चलें कहीचलो उस पतंगे की सवारी कर के बादलों के पास जायेसूरज के लाल घूंघट से हम खेलकर आयेकब तक तुम यूही बिस्तर के निचे छिपे रहोगेकब तक इस अँधेरे में घिरे रहोगेबहार आसमान बहोत साफ़ हैचलो कुछ तारे तोड़ कर लाये हम भी मैं भी बाहें फैला रही हूँ , तुम भी फैलाओ अपनीपकड़ो हाथ मेरा, चलो चलें कहीचलो…

Continue reading

poetry

Today’s child

Winter froze his eyestime stopped and winds shut down still, he roams freely thoughbut his heart is covered in black no one noticed his forehead crinkleit looks like they are lifting the burden of a horrible future pot his tiny thoughts always run into his headthey seem to be doing finebut who knows how many of them are alive no one asks, no one talksnobody shows, nobody wantshe looked at me with a broken smileit…

Continue reading

poetry

कहने दो इन्हे

हंस रही हो लेकिन ये बहे हुए काजल के दाग अभी भी है उस रात की बात, कहने दो इन्हे बाल तुम संवार रही हो लेकिन वो टूटे हुए बाल अभी भी बिखरे है तुम्हारे कंधे पर ये टूटे कैसे, कहने दो इन्हे कल तक तो हाथो में चूड़ियां भरी हुई थी आज कलाई सुनी है तुम्हारी वो कहां टूट कर बिखरी, कहने दो इन्हे मेहँदी भरी थी हाथों पर कल तक आज एक भी…

Continue reading

poetry

Colors of me

Color of redof my rage, my anger, my heart, and my hometown romancesomething I left behind, something I’m holdinglike a garden of roses with green grasses color of greenof my trust, my acceptance, my hope, and my growthsome of them here and some of them leftlike fallen seed starting to germinate color of yellowof my ecstasy, my joy, my serenity, and my strengthI fell for something, something fell for melike a blue ocean field with…

Continue reading

poetry

सितारा

उस शांत से समंदर में डूबता हुआ एक सितारा चकता है सन्नाटे चारों तरफ के खुद में ही बटोरता है अपने अकेलेपन का भोझ कैसे सहे चमकता है फिर भी अकेला है घर कहाँ है, दुब गया या कही किसी किनारे पे खड़ा है वो नाव अकेले कहाँ गई, ये बात किसको ही पता है अपने इस दर्द को कब तक सहे हर बार उसका मन उससे ये पूछता है बहता हुआ पानी और सूखती…

Continue reading