poetry

लेते आना

जब भी आना कुछ बाते, कुछ वादे लेते आनाकुछ अपने शहर की गर्मी, कुछ शर्दी लेते आनायहां अभी भी घूमते है कुछ पराये लोगमैं तुम्हारी और तुम इनके बन जाना जब भी आना कुछ अपने शहर की मिट्टी, कुछ अपने खेत की हरियाली लेते आनाकुछ अपने घर की गूंजती हसी और वो तुलसी भी लेते आनाये आंगन अभी भी सुना हैइठलाऊँगी मैं इसमें और तुम भी सुकून से सो जाना जब भी आना कुछ उस…

Continue reading

poetry

पुराने मकान

आज फिर उस गली से गुजारी हूँ मैं, वो पुराने मकान आज भी वही खड़े हैं वही पुरानी खिड़किया झांकती हुई वही खामोश हवाएं अंदर से बहार आती, जाती हुई बहोत दिन हो गए है एक दूसरे से कुछ कहे, कुछ सुने अब जब हम एक दूसरे के सामने खड़े है तो हम दोनों ही चुप है उनके मन में भी सवाल बहोत हैं मुझे भी कहना बहोत कुछ हैं फिर भी ना उन्होने कुछ…

Continue reading